Chid Chidi Lyrics ( चिड़ी चिड़ी ) – Madam Chief Minister

Print Friendly, PDF & Email

Chid Chidi lyrics in Hindi and English from the movie “Madam Chief Minister” sung by Swanand Kirkire. The song is written by Dushyant and the music is composed by Mangesh Dhakde. It Starring Richa Chadha in the lead role.

 

Song Title: Chid Chidi
Movie: Madam Chief Minister
Singer: Swanand Kirkire
Lyrics: Dushyant
Music: Mangesh Dhakde
Music Label: T-Series

Chid Chidi Lyrics in English

kal ke lie, lade aaj se
chhote pankh ab, ade baaz se

chhod ke dar, lok laaj ke
paanv jamee par, nazar taaj pe

khol pankh ab, maar udaaree
khol pankh ab, maar udaaree
tod ke pinjara, hava savaaree

hava savaaree, hava savaaree
hava savaaree, hava savaaree

khol pankh ab, maar udaaree
tod ke pinjara, hava savaaree

chidee chidee to udee udee
chidee chidee to udee udee
chidee chidee to udee udee
chidee chidee to udee udee

khol pankh ab, maar udaaree
tod ke pinjara, hava savaaree

chidee chidee to udee udee
chidee chidee to udee udee

teen lok, das disha saath mein
dor haath mein, asar baat mein
baj gaya danka, kaayanaat mein
sooraj laee, beech raat mein
sooraj laee, beech raat mein

ek achambha, dekho re bhaaree
ek achambha, ek achambha
ek achambha, ek achambha

ek achambha, dekho re bhaaree
saeekil kee kare sher savaaree

chidee chidee to udee udee
chidee chidee to udee udee
chidee chidee to udee udee
chidee chidee to udee udee

khol pankh ab, maar udaaree
tod ke pinjara, hava savaaree

chidee chidee to udee udee
chidee chidee to udee udee
 
 

Chid Chidi Lyrics in Hindi

कल के लिए, लड़े आज से
छोटे पंख अब, अड़े बाज़ से

छोड़ के डर, लोक लाज के
पांव जमी पर, नज़र ताज पे

खोल पंख अब, मार उडारी
खोल पंख अब, मार उडारी
तोड़ के पिंजरा, हवा सवारी

हवा सवारी, हवा सवारी
हवा सवारी, हवा सवारी

खोल पंख अब, मार उडारी
तोड़ के पिंजरा, हवा सवारी

चिड़ी चिड़ी तो उड़ी उड़ी
चिड़ी चिड़ी तो उड़ी उड़ी
चिड़ी चिड़ी तो उड़ी उड़ी
चिड़ी चिड़ी तो उड़ी उड़ी

खोल पंख अब, मार उडारी
तोड़ के पिंजरा, हवा सवारी

चिड़ी चिड़ी तो उड़ी उड़ी
चिड़ी चिड़ी तो उड़ी उड़ी

तीन लोक, दस दिशा साथ में
डोर हाथ में, असर बात में
बज गया डंका, कायनात में
सूरज लाई, बीच रात में
सूरज लाई, बीच रात में

एक अचंभा, देखो रे भारी
एक अचंभा, एक अचंभा
एक अचंभा, एक अचंभा

एक अचंभा, देखो रे भारी
साईकिल की करे शेर सवारी

चिड़ी चिड़ी तो उड़ी उड़ी
चिड़ी चिड़ी तो उड़ी उड़ी
चिड़ी चिड़ी तो उड़ी उड़ी
चिड़ी चिड़ी तो उड़ी उड़ी

खोल पंख अब, मार उडारी
तोड़ के पिंजरा, हवा सवारी

चिड़ी चिड़ी तो उड़ी उड़ी
चिड़ी चिड़ी तो उड़ी उड़ी
Sharing Is Caring:

Leave a Comment