Bharat Ek Saath Hai Lyrics ( भारत एक साथ है ) – Sonu Sood

Print Friendly, PDF & Email
Bharat Ek Saath Hai

Lyrics Title: Bharat Ek Saath Hai
Singers: Sonu Sood
Lyrics: Sonu Sood
Music: M Veer
Music Label: T Series

Bharat Ek Saath Hai Lyrics in English

maana kee ghanee raat hai
is raat se ladane ke lie
poora bhaarat ek saath hai

teree koshish meree koshish rang laegee
maut ke is maidaan mein
zindagee jeet jaegee
phir usee bheed ka hissa honge
bas sirph kuchh hee dinon kee baat hai

maana kee ghanee raat hai
magar poora bhaarat ek saath hai

in oonchee oonchee imaaraton kee
chhotee chhotee khidakiyon mein sapane bade hain
philahaal sambhal jaan bacha
sadakon par tere mere rakhavaale khade hain
phir khushiyon ka mausam aaega
pakka apana vishvaas hai

maana kee ghanee raat hai
is raat se ladane ke lie
poora bhaarat ek saath hai
maana kee ghanee raat hai

koee maut se ladakar zindagee bacha raha hai
koee kachara uthaakar bhee taalee baja raha hai

koee khud kee paravaah kiye bina
apana farz nibha raha hai
insaaniyat hai sabase pahale
na koee dharm na jaat hai

maana kee ghanee raat hai
magar aaj poora bhaarat ek saath hai

jisane tera ghar sanvaara
aaj vo khud beghar hai
chal pada hai sadak naapane
chehare pe shikan man mein dar hai

aao khol den apane ghar ke daravaaze
kahen kuchh din bas yehee tera ghar hai

maana kee kaalee ghanee raat hai
magar poora bhaarat ek saath hai

Music Video of Bharat Ek Saath Hai Song

Bharat Ek Saath Hai Lyrics in Hindi

माना की घनी रात है
इस रात से लड़ने के लिए
पूरा भारत एक साथ है

तेरी कोशिश मेरी कोशिश रंग लाएगी
मौत के इस मैदान में
ज़िन्दगी जीत जाएगी
फिर उसी भीड़ का हिस्सा होंगे
बस सिर्फ कुछ ही दिनों की बात है

माना की घनी रात है
मगर पूरा भारत एक साथ है

इन ऊँची ऊँची इमारतों की
छोटी छोटी खिडकियों में सपने बड़े हैं
फिलहाल संभल जान बचा
सड़कों पर तेरे मेरे रखवाले खड़े हैं
फिर खुशियों का मौसम आएगा
पक्का अपना विश्वास है

माना की घनी रात है
इस रात से लड़ने के लिए
पूरा भारत एक साथ है
माना की घनी रात है

कोई मौत से लड़कर ज़िन्दगी बचा रहा है
कोई कचरा उठाकर भी ताली बजा रहा है

कोई खुद की परवाह किये बिना
अपना फ़र्ज़ निभा रहा है
इंसानियत है सबसे पहले
ना कोई धर्म ना जात है

माना की घनी रात है
मगर आज पूरा भारत एक साथ है

जिसने तेरा घर संवारा
आज वो खुद बेघर है
चल पड़ा है सड़क नापने
चेहरे पे शिकन मन में डर है

आओ खोल दें अपने घर के दरवाज़े
कहें कुछ दिन बस येही तेरा घर है

माना की काली घनी रात है
मगर पूरा भारत एक साथ है

If there are any mistakes in this songs lyrics, please let us know by submitting the corrections in the comments section.

Sharing Is Caring:

Leave a Comment